Wednesday, June 2, 2021

लोकदेवता देवनारायण जी

लोकदेवता देवनारायण जी

देवनारायण जी 


राजस्थान जनरल नॉलेज
लोकदेवता देवनारायण जी
देवनारायण जी का जन्म 1243 ई. ( विक्रम सम्वत 1300 ) में बगड़ावत वंश के नागवंशीय गुर्जर परिवार में हुआ | इनके दादा का नाम "बाघ सिंह" पिता का नाम "सवाई भोज" माता का नाम "साढ़ू खटानी" एवं पत्नी का नाम "पीपल दे" ( धार नरेश जयसिंह की पुत्री ) ,  घोड़े का नाम "लीलागर" था | 


लोकदेवता देवनारायण जी राजस्थान
LOKDEVATA DEVNARAYAN JI 

इनके पिता सवाई भोज भिनाय ( अजमेर ) के शासक दुर्जनशाल से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए | इनकी माता उस वक्त गर्भवति थी इसलिए वो अपने पीहर देवास ( मध्य प्रदेश ) जा रही थी तो रास्ते में मालासेरी के जंगलो ( आसींद के पास ) माघ शुल्क 6 सवंत 1243 में इनका जन्म हुआ | इसके बचपन का नाम "उदयसिंह" था इनकी शिक्षा -दीक्षा देवास ( मध्य प्रदेश ) हुयी | 
देवनारायण जी को गुर्जर जाति के लोग "विष्णु का अवतार' मानते है, देवनारायण जी को आयुर्वेद का अच्छा ज्ञान था इसी कारण इन्हे आयुर्वेद का ज्ञाता कहा जाता है | 

हमारे ब्लॉग के ऐप को डाउनलोड करने के लिए निचे दिये लिंक पर क्लिक करे

ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करे

लोकदेवता देवनारायण जी
LOK DEVTA DEVNARAYAN JI FHAD 

देवनारायण जी के नाम पर देवनारायण फड़ चित्रित की गई | देवनारायण जी की फड़ सबसे प्राचीन,सबसे लम्बी व सबसे छोटी फड़ है | देवनारायण जी फड़ बाचते समय "जंतर" वाद्य यंत्र का प्रयोग किया जाता है | देवनारायण जी एकमात्र ऐसे लोक देवता है जिनकी फड़ पर भारतीय डाक विभाग द्वारा 1992 में "पॉँच रूपये का डाक टिकट जारी किया | 

नोट :- इनके वीर सहयोगी परुष माकड़ जी थे | इनका जन्म मेवाड़ के मंगरा में पंवार कुल में हुआ अजमेर की नाग पहाड़ियों में अश्विन शुल्क पक्ष की नवमी की इनका मेला लगता है | 

देवनारायण जी का मन्दिर आसींद ( भीलवाड़ा ) में है जहाँ प्रतिवर्ष भाद्रपद शुल्क पक्ष कि सप्तमी को मेला लगता है | देवनारायण जी के देवरो में उनकी प्रतिमा के स्थान पर बड़ी ईंट की नीम की पत्तियों के पूजा का विधान है क्योंकि इन्होने औषधि के रूप में नीम के महत्व की पुनः स्थापित किया | 

इंस्टाग्राम फॉलो  नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे 


नोट :- देवमाली ,ब्यावर ( अजमेर ) में भाद्रपद शुल्क की देवनारायण जी ने देह का त्याग किया | 

देवधाम, जोधपुरिया ( टोंक ) ,देवडूंगरी ( चितौड़गढ़ ) में देवनारायण जी के अन्य धर्मिक स्थल है | 

टेलीग्राम के के ग्रुप में ज्वाइन होने के लिए निचे दिए लिंक पर क्लिक करे 


नोट :- मेवाड़ शासक महाराणा सांगा के आराध्य देव देवनारायण जी थे इसी कारण देवडूंगरी ( चितौड़गढ़ ) देवनारायण जी के मन्दिर का निर्माण करवाया था | 

देवनारायण जी को राज्य क्रांति का जनक मानते है | देवनारायण जी ने भिनाय ( अजमेर ) के शासक को मारकर अपने बड़े भाई को राजा बनाया था | देवनारायण जी पर फिल्म का निर्माण भी हो चूका है | देवनारायण जी का किरदार नाथू सिंह गुर्जर ने किया था | नाथू सिंह गुर्जर भारतीय जनता पार्टी के नेता ,सांसद, विधायक और राजस्थान राज्य मंत्री मण्डल में भी रहे है | 

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search