Wednesday, June 9, 2021

Rajasthan Ke Lokdevta

हड़बूजी :- 
rajasthan ke lokdevta
Lokdevta Hadbu ji


हड़बूजी का जन्म भूंडेल ग्राम ( नागौर ) में "मेहाजी" के यहाँ सांखला राजपुत परिवार में हुआ | हड़बूजी "गुरु बालीनाथ" के शिष्य और "बाबा रामदेव जी" के मौसेरे भाई थे | इन्हे वचन सिद्ध पुरुष / चमत्कारी पुरुष / शकुन शास्त्र का ज्ञाता / योगी सन्यासी / वीरयोद्धा आदि उपनामों से जाना जाता है | हडबू जी का वाहन "सियार" है | 

यह भी देखे 

हड़बूजी का मन्दिर बेंगटी ( फलौदी, जोधपुर ) में बना हुआ है, जिनके पुजारी साँखला राजपूत होते है | मन्दिर का निर्माण 1721 में जोधपुर महाराजा अजीत सिंह के द्वारा करवाया गया | 

हड़बूजी के मंदिर में किसी मूर्ति की पूजा नहीं की जाती बल्कि जिस बैलगाड़ी से हडबू जी पंगु / अशक्त गौवंश के लिए घास भर कर लाते थे उसी बैलगाड़ी की उनके प्रिय भक्तों द्वारा पूजा की जाती है | 

हडबूजी जोधपुर के सस्थांपक राव जोधा के समकाली थे | हड़बूजी ने राव जोधा को साम्राज्य विस्तार के लिए उन्हें एक कटार एवं घोडा दिया और राव जोधा का राज्य विस्तार हो जाने के पश्चात इन्हे बगेटि गाँव एवं गाड़ी उपहार में दी राव जोधा ने अपना अंतिम समय हड़बूजी के यहाँ बिताया | 


समाधी लेने के बाद बाबा रामदेव जी ने हड़बूजी को दर्शन देकर "एक रतन कटोरा व सोहन चुटिया" भेट की थी | रामदेवजी ने अपने ग्रंथ "चौबीस वाणिया" में लिखा है | 
"हड़बू जी सांखला हर दम हाजिर गाँव बेंगटी माही |
दूजी देह म्हारी ही जाणों, हाँ मौसी जाया भाई"

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search