Tuesday, 6 August 2013

उतरी-पश्चिमी मरूस्थलीय प्रदेश / North-Western Sandy Arid Plains


  • मरूस्थलीय प्रदेश का विस्तार : अरावली पर्वतमाला के पश्चिमी ढाल से भारत-पाक की अंतर्राष्ट्रीय सीमा तक लगभग 2 लाख 9 हजार वर्ग किमी क्षेत्र में है।
  • मरूस्थलीय प्रदेश (थार मरूस्थल) का क्षेत्रफल राजस्थान के कुल क्षेत्रफल का  60 प्रतिशत है।
  • मरूस्थलीय प्रदेश (थार मरूस्थल) में राजस्थान की 40 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है।
  • का क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा प्राकृतिक विभाग - उतरी-पश्चिमी मरूस्थलीय प्रदेश (थार मरूस्थल)।
  • मरूस्थलीय प्रदेश का पूर्वी भाग कहलाता है - मारवाड़ ।
  • मरूस्थलीय प्रदेश का पश्चिमी भाग कहलाता है - थार का मरूस्थल।
  • मरूस्थलीय प्रदेश का बालुका रहित क्षेत्र हैध् बालुका स्तूप मुक्त क्षेत्र - पोकरण, द.प. फलौदी व जैसलमेर के चारों ओर का क्षेत्र।
  • पथरीले मरूस्थल को ‘हम्माद’ व मिश्रित (चट्टानी) मरूस्थल को ‘रैग’ कहा जाता है।
  • रेतीले मरूस्थल का विस्तार किन-किन जिलों में है - जैसलमेर-बाड़मेर-बीकानेर।
  • पथरीले मरूस्थल (हम्माद) का विस्तार है - जोधपुर-जैसलमेर-बाड़मेर-जालौर जिले का कुछ भाग
  • शुष्क मरूस्थलीय भाग का विस्तार -जैसलमेर-बाड़मेर-बीकानेर-जोधपुर-जालौर।
  • अर्द्ध शुष्क मरूस्थलीय भाग का विस्तार व इनके उपभाग -
  1. नागौरी उच्च भूमि - नागौर
  2. शेखावाटी - चुरू-झुंझुनू-सीकर
  3. वोल्गा क्षेत्र - गंगानगर-हनुमानगढ
  4. लूनी-जवाई - जालौर-सिरोही-पाली

  • उतरी-पश्चिमी मरूस्थलीय प्रदेश की सीमा 644 किमी व पूर्वी सीमा 360 किमी लंबी है।
  • अरावली पर्वतमाला के पश्चिमी भाग अर्थात उतरी-पश्चिमी मरूस्थलीय प्रदेश में आने वाले जिलों की संख्या - 13 जिले।
  • जैसलमेर के उतर व पोकर के दक्षिण में फैले ‘बालुका स्तूप मुक्त क्षेत्र’ को कहते है - रन।
  • थार मरूस्थल में बालुका स्तूपों के बीच में कहीं-कहीं निम्न भूमि मिलती है जिसमें वर्षा का जल भर जाने से अस्थायी झीलों का निर्माण हो जाता है, इन्हे कहा जाता है - रन या टाट।
  • राजस्थान के किन दो जिलों में ‘रन’ का बाहुल्य है - जैसलमेर व जोधपुर में।
  • संपूर्ण रेतीला मरूस्थल कहलाता है - इर्ग।
  • प्राचीन काल में थार मरूस्थल टैथिज महासागर का भाग था।
  • थार मरूस्थल में पवनों की दिशा के समानान्तर बनने वाले अनुदैध्र्य बालुका स्तूपों का सर्वाधिक विस्तार किस जिले में है - जैसलमेर में।
  • थार मरूस्थल में पवनों की दिशा के लंबवत या समकोण बनाने वाले ‘अनुप्रस्थ बालुका स्तूपों’ का सर्वाधिक विस्तार वाला जिला है - बाड़मेर।
  • राजस्थान का पूर्णतः वनस्पति रहित क्षेत्र समगांव (सम के धोर) किस जिले में स्थित है - जैसलमेर
  • राजस्थान में पूर्ण मरूस्थल वाले दो जिले - जैसलमेर-बाड़मेर।
  • उतरी-पश्चिमी मरूस्थलीय प्रदेश के लगगभ 58 से 60 प्रतिशत भू भाग पर बालूका स्तूपों का विस्तार है।
  • राजस्थान का 60 प्रतिशत से अधिक भाग (61.11 प्रतिशत) मरूस्थलीय है।
  • राष्ट्रीय कृषि आयोग द्वारा घोषित राजस्थान के 12 मरूस्थलीय जिले - 1. गंगानगर, 2. हनुमानगढ, 3.बीकानेर, 4.चुरू, 5. झुंझुनू, 6. सीकर, 7.नागौर, 8. जोधपुर, 9.जैसलमेर, 10. पाली, 11. बाड़मेर, 12. जालौर।
  • राजस्थान के उतरी-पश्चिमी मरूस्थलीय प्रदेश (थार मरूस्थल) में पाये जाने वाले अर्द्ध चंद्राकार बालूका स्तूप, जो श्रृंखलाओं में गतिशील एवं मरूस्थल के प्रसार हेतु सर्वाधिक उतरदायी होते है, कहलाते है - बरखान।
  • जैसलमेर जिले के रूद्रवा व रामगढ में चट्टानी/मिश्रित मरूथल पाया जाता है।
  • थार मरूस्थल की उत्पति का सबसे प्रभावशाली कारण है - शुष्कता में वृद्धि।
  • राजस्थान का थार मरूस्थल पर्मोकार्बोनिफेरस युग में टैथिज सागर का अंग था, इस तथ्य की पुष्टि करने वाले तत्व है - आकल जीवाश्म पार्क, जलोद्भिद, तलछट व लिग्नाइट, खनिज तेल और प्राकृतिक गैस का जमाव आदि।
  • राजस्थान में मरूस्थलीकरण का मुख्य कारण है - भूमि का अलाभप्रदकर उपयोग।
  • अरावली पर्वतमाला के पश्चिम में स्थित 13 जिलों में से सिरोही को छोड़कर शेष सभी मरूस्थलीय है।
  • राजस्थान का थार मरूस्थल अरावली पर्वतमाला के/से उतर-पश्चिम दिशा में विस्तृत है।
  • राजस्थान के उतरी-पश्चिमी मरूस्थलीय प्रदेश का सामान्य ढाल पूर्व से पश्चिम तथा उतर से दक्षिण की ओर है।
  • राजस्थान का सबसे शुष्क स्थान - फलौदी।
  • थार मरूस्थल पेलियो आर्कटिक अफ्रीका मरूस्थल का ही पूर्वी भाग है।
  • लूनी-जवाई बेसिन को किस क्षेत्र के नाम से जाना जाता है - गौड़वाड़ से।
  • रन का सर्वाधिक बाहुल्य वाला जिला है - जैसलमेर
  • किस जिले में सभी प्रकार के बालुका स्तूप देखने को मिलते है - जोधपुर।
  • राजस्थान के पश्चिमी रेतीले मैदान में लगभग 60 प्रतिशत क्षेत्र पर बालूका स्तूप पाए जाते है।
  • बरखान - अर्द्धचंद्राकार ।
  • आकृति के गतिशील बालूका स्तूप राजस्थान के पश्चिमी रेतीले मैदान की शैले किस भू-गर्भिक काल की है - जुरैसिक व इयोसिन युग की।
  • घग्घर मैदान गंगानगर जिले के 3/4 भाग में विस्तृत है।
  • ‘खड़ीन’: जैसलमेर के उतरी भाग में बड़ी संख्या में स्थित प्लाया झीलें, जो प्रायः निम्न कगारों से घिरी रहती है।
  • रन: बालूका स्तूपों के बीच की निम्न भूमि में वर्षा जल के भर जाने से निर्मित अस्थाई झीले व दलदली भूमि।
  • प्रमुख रन - 

  1. जैसलमेर - कनोड़, बरमसर, भाकरी, पोकरण, लवा
  2. जोधपुर - बाप
  3. बाड़मेर - थोब
  4. शेखावाटी - तालछापर व परिहारा
  • मरू त्रिकोण (डेजर्ट ट्राएंगल) - जोधपुर-जैसलमेर-बीकानेर


Visit these blogs for more innovative content for 
All Competitive Examinations

(Content on Geography, History, Polity, Economy, Biology, Physics, Chemistry Science & Technology, General English, Computer etc. for Examinations held by UPSC - CSAT, CDS, NDA, AC; RPSC And Other  State Public Service Commissions, IBPS - Clercial & PO, SBI, RRB, SSC - HSL, CGL etc.)

(Special Content for RAS 2013 Prelims & Mains)

(Learn through Maps, Diagrams & Flowcharts)

BEST WISHES
RAJASTHAN STUDIES
Blog on Rajasthan General Knowledge (GK)  for all Competitive Examinations Conducted by Rajasthan Public Service Commission (RPSC) and other Governing Bodies.


        No comments:

        Post a Comment