Tuesday, 6 August 2013

राजस्थानी साहित्य से संबंधित प्रमुख शब्दावली / Key Terminology Related to Literature of Rajasthan


  • ख्यात (Khyat): राजस्थानी साहित्य के इतिहासपरक ग्रंथ जिनकी रचना तत्कालीन शासकों ने अपनी मान मर्यादा एवं वंशावली के चित्रण हेतु करवाई हो, ख्यात कहलाती है।
  • वंशावली (Vanshavali / Pedigree): राजवंशों की वंशावलियां विस्तृत विवरण सहित।
  • वात (Baat): वात का अर्थ ऐतिहासिक, पौराणिक, प्रेमपरक व काल्पनिक कथा या कहानी से है।
  • प्रकास (Prakas): किसी वंश या व्यक्ति विशेष की उपलब्धियों पर प्रकाश डालने वाली कृतियां।
  • वचनिका (Vachnika / Bachnika): यह गद्य-पद्य तुकांत रचना होती है।
  • मरस्या (Marasya / Anthologies): राजा या किसी व्यक्ति विशेष की मृत्यु के बाद शोक व्यक्त करने के लिए रचित काव्य।
  • दवावैत (Davavait): यह उर्दू फारसी की शब्दावली से युक्त राजस्थानी कलात्मक लेखन शैली है।
  • रासौ (Raso / Rasau): राजाओं की प्रशंसा में लिखे गये विशाल काव्य ग्रंथ।
  • वेलि (Veli): राजस्थानी वेलि साहित्य में शासकों व सामंतों की वीरता, इतिहास, उदारता व वंशावली का उल्लेख होता है।
  • विगत (Vigat): इतिहास परक रचनाएं।
  • निसाणी (Nisani): किसी व्यक्ति या घटना का स्मरण दिलाने वाली रचना।
  • ख्यात-वात-वित-वंशावलि - गद्य रूप में; निसाणी-गीत-रासौ-वेलि - पद्य रूप में।


Visit these blogs for more innovative content for 
All Competitive Examinations

(Content on Geography, History, Polity, Economy, Biology, Physics, Chemistry Science & Technology, General English, Computer etc. for Examinations held by UPSC - CSAT, CDS, NDA, AC; RPSC And Other  State Public Service Commissions, IBPS - Clercial & PO, SBI, RRB, SSC - HSL, CGL etc.)

(Special Content for RAS 2013 Prelims & Mains)

(Learn through Maps, Diagrams & Flowcharts)

Regards,
RAJASTHAN STUDIES
Blog on Rajasthan General Knowledge (GK)  for all Competitive Examinations Conducted by Rajasthan Public Service Commission (RPSC) and other Governing Bodies.

1 comment: