सात सहेल्यां रे झूलरे


सात सहेल्यां रे झूलरे, पणिहारी जीयेलो मिरगानेणी जीयेलो
पाण्यू चाली रे तालाब, बाला जो
काळी रे कळायण उमडी ए*पणिहारी जीयेलो, मिरगानेणी*जीयेलो,
छोटोडी बूंदां रो बरसे मेह, बालाजो।
आज धराऊं धूंधलो ए पणिहारी..........
मोटोडो धारां रो बरसे मेह, बाला जो।
भर नाडा भर नाडयां ए पणिहारी..........
भरियो-भरियो समंद तलाब, बाला जो।
सुणल्यो सहेल्यो म्हारी भायल्यो
सुपनो जी आयो आधी रात
सहेल्यो थानें सुपनों सुणाऊं ए  २
नौ तो कुआ दस बावड़ी भरिया ताळ तळाब
सुपनें में मैं तो सासरियो देख्यो ए  २
ऊँची मेडी चढ़ चली गढ़ छूवै असमान
सासरियो म्हाने बाल्हो लाग्यो ए  २
मायड़ सी म्हारी सास छी बाबुल सा ससुर सुजान
नणदली म्हारे घणी मन भाई ए  २
सेज बिछी रंग महल में फूलां स्यूं सेज सजाई
पियाजी रंग महल्याँ पधारया ए  २
मधरी-मधरी चाल छी होठां पे मुस्कान
पियाजी म्हारे घणा मन भाया ए  २
घूंघटो उठायो म्हारो प्रेम से नैणा स्यूं नैण मिलाय
पियाजी म्हारे नैणा में समाया ए  २
पलकां झुकी म्हारी लाज स्यूं होठां स्यूं बोल्यो नाहीं जाय
पियाजी म्हानें अंग लगाया ए  २
पाछे सुपनों टूटग्यो, रहगी अधूरी आस
सहेल्यां थाने अब के सुणाऊं ए  २ स्थाई

Comments

Popular posts from this blog

राजस्थान प्रश्नोत्तरी 1

राजस्थान: वन्य जीव अभयारण्य एवं राष्ट्रीय उद्यान / Rajasthan: Wildlife Sanctuaries and National Parks

राजस्थान के प्रमुख त्यौंहार, उत्सव एवं मेले