Friday, 26 August 2011

बना रे बागां में झुला घाल्या


बना रे बागां में झुला घाल्या
म्हारे हिवडे री, म्हारे जिवड़े री, म्हारे मनड़े री कोयल बोले झुला छैल भंवरसा
म्हारे मनड़े री कोयल बोले झुला छेल भंवरसा

गोरी ऐ बागां में झुला घाल्या
म्हारे हिवड़े रो , म्हारे जिवड़े रो , म्हारे मनड़े रो मोरियो नाचे झुला जान कंवरसा
म्हारे मनड़े रो मोरियो नाचे झुला जान कंवरसा

बना रे फागण री रुत आई
मैं लुक छिप, मैं छुप छुप, मैं छाने छाने आई , म्हारा छैल भंवरसा
मैं छाने छाने आई , म्हारा छैल भंवरसा


गोरी ऐ रंग गुलाबी थारो
थारे नैणा सूं, थारे गालां सूं , थारे होठा सूं रंग मन म्हारो म्हारी जान कंवरसा
थारा होठा सूं रंग मन म्हारो म्हारी जान कंवरसा

बना रे रंग में रंग रळ जावे
जद मनड़े सूं, जद तनड़े सूं, जद मनड़े सूं मन मिल जावे म्हारा छैल भंवरसा
जद मनड़े सूं मन मिल जावे म्हारा छैल भंवरसा


गोरी ऐ प्रीत री डोर न टूटे
इण जनम ने, ऊण जनम ने, सौ जनम में साथ न छूटे म्हारी जान कंवरसा
सौ जनम में साथ न छूटे म्हारा छैल भंवरसा
सौ जनम में साथ न छूटे म्हारी जान कंवरसा

No comments:

Post a Comment