Friday, 26 August 2011

कोऊ दिन


कोऊ दिन उठ गयो मेरा हाथ
बलम तोहे ऐसा मारूंगी
ऐसा मारूंगी बलम तोहे ऐसा मारूंगी

चकला मारूं बेलन मारूं फुंकनी मारूंगी
जो बालम तेरी मैया बचावै
वाकी चुटिया उखाड़ूंगी

थाली मारूं कटोरी मारूं चम्मच मारूंगी
जो बालम तेरी बहना बचावै
वाकी चुनरी फाड़ूंगी

लाठी मारूं डंडा मारूं थप्पड़ मारूंगी
जो बालम तेरो भैया बचावै
वाकी मूंछे उखाड़ूंगी

No comments:

Post a Comment